SHOWMANSHIP

इस मामले में अधिकारियों का कहना है कि उस चिट्ठी की जांच की जा रही है जिसे कथित तौर पर अफगान दूतावास की ओर से भेजा गया है।

अफगानिस्तान ने भारत में अपनी एंबेसी को फिलहाल बंद कर दिया है। सूत्रों के मुताबिक भारत में अफगान एंबेसी बंद करने के मामले की जांच की जा रही है। यह घटनाक्रम राजदूत फरीद ममुंडज़े के कई महीनों तक भारत से बाहर रहने के बीच हुआ है। पता चला है कि वह इस वक्त लंदन में हैं। उनकी नियुक्ति पिछली अशरफ गनी सरकार ने की थी। जानकारी के लिए बता दें कि यह मामला अफगानिस्तान कि नई तालिबान सरकार से जुड़ा है। भारत तालिबान सरकार को मान्यता नहीं देता है और 2021 में तालिबान के नियंत्रण के बाद काबुल में अपना दूतावास बंद कर दिया था, लेकिन नई दिल्ली ने पूर्व अफगान राष्ट्रपति अशरफ गनी की सरकार द्वारा नियुक्त राजदूत और मिशन कर्मचारियों को वीजा जारी करने की अनुमति दी थी। इस मामले में अधिकारियों का कहना है कि उस चिट्ठी की जांच की जा रही है जिसे कथित तौर पर अफगान दूतावास की ओर से भेजा गया है।

https://www.instagram.com/showmanship.in/

भारत को कर दिया गया है सूचित

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक अफगान दूतावास ने कथित तौर पर अगले कुछ दिनों में परिचालन बंद करने के अपने फैसले के बारे में विदेश मंत्रालय (एमईए) को सूचित कर दिया है।भारत इस बात पर जोर देता रहा है कि अफगान धरती का इस्तेमाल किसी भी देश के खिलाफ आतंकवादी गतिविधियों के लिए नहीं किया जाना चाहिए। इसके अलावा भारत ने अफगानिस्तान में तालिबान शासन को मान्यता नहीं दी है।

तालिबान शासन ने विदेशों में कम से कम 14 मिशनों पर नियंत्रण कर लिया है जहां उसने अपने खुद के नामांकित व्यक्तियों को तैनात किया है, लेकिन दिल्ली इसमें शामिल नहीं थे।

अप्रैल के अंत में दूतावास में भड़की अंदरूनी कलह से वाकिफ विदेश मंत्रालय ने किसी का पक्ष नहीं लिया है। सूत्रों ने कहा कि इसने दोनों पक्षों को बता दिया है कि यह एक आंतरिक मामला है जिसे उन्हें खुद ही सुलझाना होगा। इसी साल जून में विदेश मंत्रालय के आधिकारिक प्रवक्ता ने सवालों के जवाब में कहा था, ”हमारे नजरिए से यह अफगान दूतावास का आंतरिक मामला है और हमें उम्मीद है कि वे इसे आंतरिक रूप से सुलझा लेंगे।”

Read More News Click Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *