SHOWMANSHIP

एम एस स्वामीनाथन, भारत की हरित क्रांति के पिता और एक प्रसिद्ध भारतीय कृषि वैज्ञानिक, आज, 28 सितंबर 2023 को अपने चेन्नई के आवास में 98 वर्ष की आयु में निधन हो गये। स्वामीनाथन को 1987 में पहला वर्ल्ड फूड प्राइज प्राप्त हुआ था, जिसके बाद उन्होंने चेन्नई के तारामणी में एम एस स्वामीनाथन अनुसंधान संस्थान (एमएसएसआरएफ) की स्थापना की।

एम एस स्वामीनाथन, जिन्हें भारत के हरित क्रांति के पिता के रूप में माना जाता है, गुरुवार को चले गए। उनकी आयु 98 वर्ष थी। स्वामीनाथन ने पैदावार की उच्च यील्डिंग प्रजातियों के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, जिससे भारत के निम्न-आय किसान अधिक उत्पादन प्राप्त कर सके। उनका अंतिम संस्कार शायद रविवार को किया जाए।

उनके कार्यकाल में, स्वामीनाथन ने विभिन्न विभागों में विभिन्न पदों पर कार्य किया। उन्हें भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान के निदेशक (1961-72), आईसीएआर के महानिदेशक और भारत सरकार के कृषि अनुसंधान और शिक्षा विभाग के सचिव (1972-79), कृषि मंत्रालय के मुख्य सचिव (1979-80), क्रियाशील उपाध्यक्ष और फिर संयुक्त योजना आयोग के सदस्य (विज्ञान और कृषि) (1980-82) और अंत में अंतरराष्ट्रीय धान अनुसंधान संस्थान, फिलीपींस के महानिदेशक (1982-88) के रूप में कई पदों पर कार्य किया।

2004 में, स्वामीनाथन को राष्ट्रीय किसान आयोग के चेयरमैन के रूप में नियुक्त किया गया, जो चिंता की बीमारी के बीच किसानों की समस्याओं की जाँच के लिए गठित किया गया था। आयोग ने 2006 में अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की और इसमें अपने सुझावों में शामिल था कि न्यूनतम बेचने की मूल्य (एमएसपी) को उत्पादन के वजनित औसत लागत से कम से कम 50 प्रतिशत अधिक होना चाहिए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने शोक संदेश में जो कि एक चर्चा पर पोस्ट किया गया, कहा: ‘डॉ. एम.एस. स्वामीनाथन जी के निधन से गहरा दुख हुआ है। अपने देश के इतिहास के एक महत्वपूर्ण दौर में, उन्होंने कृषि में अपने अद्वितीय काम से लाखों लोगों के जीवन को परिवर्तित किया और हमारे देश के लिए खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित की। कृषि में अपने क्रांतिकारी योगदान के पार, डॉ. स्वामीनाथन नवाचार का एक पॉवरहाउस थे और बहुत सारों के लिए पोषण देने वाले गुरु थे। उनका अदला बदला संशोधन और मेंटरशिप के प्रति अड़ले जाने बदले संगठनों और नवाचारकों पर अविमर्षी संकल्प ने अनगिनत वैज्ञानिकों और नवाचारकों पर अविमर्ष प्रभाव डाल दिया है। मैं हमेशा डॉ. स्वामीनाथन के साथ हुई बातचीतों को याद करूंगा। उनका भारत की प्रगति को देखने की उनकी उत्सुकता नमूनादार थी। उनका जीवन और काम आगे आने वाली पीढ़ियों को प्रेरित करेगा। उनके परिवार और उनके प्रशंसकों को श्रद्धांजलि। ॐ शांति।

पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा ने X पर कहा, ‘मुझे डॉ. एम.एस. स्वामीनाथन के निधन की खबर सुनकर दुख हुआ है। मैंने उनकी सलाह का बड़ा लाभ उठाया है कई अवसरों पर और हाल ही में भी उनसे संपर्क में रहा हूँ। उनके परिवार और दोस्तों को मेरी श्रद्धांजलि। शांति मिले सर को।

केरल के मुख्यमंत्री पिणारायी विजयन ने कहा, ‘भारतीय हरित क्रांति के मार्गदर्शक, डॉ. एम.एस. स्वामीनाथन के निधन की खबर सुनकर गहरा दुःख हुआ। वे वास्तविक दूरदर्शी और कृषि और साश्वत विकास के प्रमुख हैं। उनके अथक प्रयासों से खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने और हमारे किसानों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए उन्होंने जो मेहनत की है, वह हमेशा याद रखी जाएगी। उनके परिवार और प्रियजनों के प्रति गहरी श्रद्धांजलि।

भारतीय हरित क्रांति के जनक और पद्म विभूषण से सम्मानित प्रख्यात कृषि वैज्ञानिक श्री एमएस स्वामीनाथन का निधन भारतीय कृषि जगत के लिए अपूरणीय क्षति है। उच्च उपज वाली फसल किस्मों और आधुनिक को विकसित करके कृषि उत्पादन में सुधार करने में उनका अतुलनीय योगदान तकनीकों को हमेशा याद किया जाएगा। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें और शोक संतप्त परिवार को दुख की इस घड़ी में संबल प्रदान करें।

स्वामीनाथन को 1987 में पहले विश्व खाद्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया था, जिसके बाद उन्होंने चेन्नई के तारामणि में एमएस स्वामीनाथन रिसर्च फाउंडेशन (एमएसएसआरएफ) की स्थापना की।

स्वामीनाथन को पद्म श्री, पद्म भूषण और पद्म विभूषण से सम्मानित किया जा चुका है। वह रेमन मैग्सेसे पुरस्कार (1971) और अल्बर्ट आइंस्टीन विश्व विज्ञान पुरस्कार (1986) सहित कई अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों के अलावा एच के फिरोदिया पुरस्कार, लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय पुरस्कार और इंदिरा गांधी पुरस्कार के प्राप्तकर्ता भी हैं।

स्वामीनाथन के परिवार में उनकी तीन बेटियां सौम्या स्वामीनाथन, मधुरा स्वामीनाथन और नित्या स्वामीनाथन हैं। उनकी पत्नी मीना का 2022 में निधन हो गया था।

Read More News Click Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *