SHOWMANSHIP

बीजेपी के प्रदेश महासचिव भगवान दास सबानी ने कहा, कि चुनाव के दौरान हर कार्यकर्ता सोचता है कि उसे टिकट दिया जाना चाहिए।

मध्य प्रदेश में भाजपा ने कई बड़े चेहरों को मैदान में उतारा है। इस बड़े कदम के पीछे गुटबाजी को शुरुआत में ही खत्म करना एक कारण था। पार्टी ने तीन केंद्रीय मंत्रियों, चार सांसदों और एक राष्ट्रीय महासचिव को चुनावी लड़ाई के लिए मैदान में उतारा है। सोमवार को बीजेपी की दूसरी लिस्ट घोषित होने के कुछ दिनों बाद सत्ता विरोधी लहर और गुटबाजी का सामना कर रही स्टेट यूनिट में असंतोष की लहर जारी है। भाजपा ने अब तक 230 में से 79 उम्मीदवारों के नाम घोषित किए हैं।

सीधी में पार्टी ने तीन बार के विधायक केदारनाथ शुक्ला की जगह सांसद रीति पाठक को टिकट दिया है। उनके समर्थक होने का दावा करने वाले एक व्यक्ति द्वारा एक आदिवासी शख्स पर पेशाब करने के बाद शुक्ला से पार्टी नाराज हो गई। इस घटना पर जमकर हंगामा हुआ और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने डैमेज कंट्रोल आदिवासी व्यक्ति के पैर धोए।

(@showmanship.in)

कई नेताओं ने दिए इस्तीफे

शुक्ला ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, ”इससे ​​पूरी पार्टी संदेह के घेरे में आ गई है। रीति पाठक को टिकट दिया गया है और यह दिखाता है कि पार्टी अपने जमीनी कार्यकर्ताओं को कोई महत्व नहीं देती है। मैं पिछले कुछ दिनों में 20,000 से अधिक लोगों से मिल चुका हूं और मैं जल्द ही अपनी योजनाओं की घोषणा करूंगा।

भाजपा के पूर्व सीधी जिला अध्यक्ष राजेश मिश्रा ने पार्टी के फैसले पर विभिन्न पदों से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कहा, “मैंने पार्टी नहीं छोड़ी है बल्कि सीधी में भाजपा के विभिन्न निकायों से इस्तीफा दे दिया है। मुझे इस फैसले पर बहुत बुरा लगा। लेकिन मैं हमेशा की तरह बीजेपी के लिए काम करता रहूंगा। यह एक विरोध था और भाजपा एक लोकतांत्रिक पार्टी है और इसमें असहमति के लिए जगह है।”

सतना में चार बार के सांसद गणेश सिंह को कांग्रेस से सीट वापस हासिल करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। निवर्तमान विधायक डब्बू सिद्धार्थ सुखलाल कुशवाहा ने पिछले चुनाव में 2003 से जारी भाजपा की जीत का सिलसिला खत्म कर दिया था।

भाजपा के पूर्व जिला उपाध्यक्ष रत्नाकर चतुर्वेदी ने विरोध में छोड़ी बीजेपी

पूर्व जिला भाजपा के उपाध्यक्ष रत्नाकर चतुर्वेदी ने विरोध में पार्टी छोड़ दी है और निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे। चतुर्वेदी ने द इंडियन एक्सप्रेस से कहा, “मुझे अपने क्षेत्र का पूरा समर्थन मिल रहा है और मैं एक स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ूंगा। यह रणनीति हमारे अनुकूल नहीं बैठती। यह हमारे चुनाव लड़ने का समय है और वे चुनाव लड़ने के लिए एक सांसद लाए हैं। भविष्य में वह अपने बच्चों को यहां से चुनाव लड़वाएंगे। मैंने अपने जीवन के 15 साल भाजपा को दिए हैं। मैं चुनाव भले ही न जीत पाऊं, लेकिन मैं यह सुनिश्चित करूंगा कि गणेश सिंह हार जाएं।”

भाजपा केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के वफादारों और भाजपा के पुराने नेताओं के बीच अंदरूनी कलह से भी जूझ रही है। हाल के महीनों में सिंधिया के कई वफादारों ने पार्टी छोड़ दी है और फिर से कांग्रेस में शामिल हो गए हैं।

हर कार्यकर्ता सोचता है कि उसे टिकट दिया जाना चाहिए

उम्मीदवारों को लेकर पार्टी के भीतर तनाव के बारे में पूछे जाने पर भाजपा के राज्य महासचिव भगवान दास सबानी ने कहा, “चुनाव के दौरान, हर कार्यकर्ता सोचता है कि उसे टिकट दिया जाना चाहिए। पार्टी ने ऐसे उम्मीदवारों का चयन कर लिया है जिनके जीतने की संभावना सबसे अधिक है। बीजेपी में ज्यादा गुटबाजी नहीं है। लेकिन ऐसे मामलों में हम उनसे बात करने की कोशिश करेंगे, संगठन उनसे बात करेगा।”
Read More News Click Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *