SHOWMANSHIP

राजस्थान के मुख्यमंत्री का नाम की एलान बीजेपी सरकार ने कर दिया है जिसमे अब सामने आ गया है की अब राजस्थान में बसुंधरा राजे का बोलबाला नहीं बल्कि भजनलाल शर्मा की तूती बजेगी। जैसे की हमने आपको पहले भी बताया था की भाजपा हमेशा ही चौंकाने वाले निर्णय देती है वैसे ही सभी लोग बसुंधरा के बारे में सोच रहे थे जबकि छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश की तरह राजस्थान में भी सबको चौंका देने वाला फैसला सुनाया है। आपको बता दें भजनलाल शर्मा पहली बार विधयक के रूप में चुनाव लड़े और इनको राजस्थान के सनाग्नेर सीट से पहली वर चुनाव के लिए खड़ा किया गया। हालाँकि वह पहली बार विधायक बने हैं पर संगठन में उनकी पकड़ बहुत मजबूत दिखाई दी है और वो अमित शाह के भी बहुत करीबी हैं। भजनलाल शर्मा जी आरएसएस के साथ छात्र संगठन के साथ भी जुड़े हुए थे ।

Read More : Click Here

कौन हैं भजनलाल शर्मा

भजनलाल शर्मा अपने शुरुआती दिनों में ठेके पर आठ हजार की पगार पर काम करते थे। उनका काम काम आरपी शर्मा से हाइवे के ठेके लेना था। वह भाजयुमो के अध्यक्ष भी रह चुके हैं इसके साथ वह आरपी जी के यहाँ एक मुनीम का काम भी करते थे इन्होने हर तरह के काम किये हैं यह पत्थर खुदाई का काम भी कर चुके हैं मुनीम का काम छोड़ने के उपरांत। किरण माहेश्वरी जो की बंसुन्धरा सरकार के समय जलदाय मंत्री थी उनके सम्पर्क में आने के बाद भजनलाल शर्मा की किस्मत बदलने लगी वो स्वर्ग सिधार चुके हैं उन्होंने ही इनको अपने विबाहग में काम दिलवाया था। इसके साथ सरकार ये भी कह रही है हमारी सरकार में यूपी और उत्तराखंड में पहले से ही राजपूत सीएम हैं तो इसलिए अब हम ब्राह्मण को आगे लाएंगे तो इस तरह से भाजपा सरकार ने सीएम और दो डिप्टी ब्राह्मण , राजपूत और दलित का अच्छा समीकरण बना कर उदाहरण पेश किया है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *