SHOWMANSHIP

इस्राईल ने ग़ज़ा पर फिर से दर्जनों लाशे गिरायी

आपको बता दें कि पिछले कुछ दिन पहले हरियाणा की एक सरकारी कंपनी ने अभियान चलकर दस हजार लोगों को इजराइल के लिए भर्ती किया। अब इजराइल में एक डेलिगेशन अगले हफ्ते में आने वाला है जो लगबघ बीस हजार लोगों को भर्ती करेगा, सूत्रों ने बताया कि इन लोगो को इजराइल के कंस्ट्रक्शन के काम में लगाया जाएगा। आपको बता दें कि इसका बड़ा कारण ये है कि काफी सारे लोग इजराइल के युद्ध में मोर्चे पर तैनात हैं जिसकी बजह से लेबर कि कमी हो गयी है। इस सब के बीच इजराइल ने भारत का सहारा ले रहा है। लेबर के लिए 27 दिसंबर से दिल्ली और चेन्नई में अभियान शुरू करेगा इजराइल बिल्डर्स एसोसिएशन ने बताया। शाय पॉजनर कि 27 दिसंबर को होने वाली चयन प्रक्रिया दस से पंद्रह दिनों तक चलेगी।, अभी हम सरकार कि मंजूरी से केवल दस हजार मजदूर ही ले जाएंगे पर जल्द ही इसकी संख्या बढ़ जाएगी। ये चयन प्रक्रिया को इजराइल से सीईओ ईगल स्लोविक की टीम पिछले हत्फे चयन के लिए हरयाणा आयी थी। जो कि फिर से अगले सप्ताह में आएगी।

जानकारी के मुताबिक इजराइल के हाउसिंग मिनिस्ट्री डायरेक्टर जेनरल यहूदा अपने डेलिगेशन के साथ दौरा करेंगे। इजराइल के पीएम का ऑफिस का कहना है कि बेंजामिन और पीएम मोदी के बीच बातचीत हुई जिसमे पॉजनर ने कहा कि हमे तुरंत लोगो कि जरूरत पड़ेगी। तो यह सरकार ही फैसला करेगी कि हमे कितने मजदूरों कि जरूरत है इससे पहले भी इजराइल कई देशो से मजदूरों को लता रहा है।

Read More: Click Here

इजराइल के पास पहले वेस्ट बैंक से अस्सी हजार और 17 गाजा से आने वाले लोगो का युद्ध कि वजह से परमिट खत्म कर दिया गया है जिससे काफी मजदूरों की कमी हो गयी है अभी इस देश के पास एक लाख मजदूर कि कमी है किसको ये भारत और अन्य देश से पूरा कर सकता है इसमें सात हजार चीन के लोग भी काम कर रहे हैं। इजराइल के इस फैसले से फिलिस्तानियो को लगा बड़ा झटका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *