SHOWMANSHIP

मुंबई यूनिवर्सिटी जल्दी ही ऑक्सफ़ोर्ड सेंटर फॉर हिन्दू स्टडीज की सहयता से मंदिर प्रबंधन पर एक पाठ्यक्रम पेश किया जाएगा। ये दोनों मोड़ ऑनलाइन और ऑफलाइन में होगा ,इससे छात्र ग्रेजुएशन और डिप्लोमा हासिल कर सकेंगे , यूनिवर्सिटी के ऑक्सफ़ोर्ड सेंटर फॉर हिन्दू स्टडीज ने अपने संस्कृति विभाग के साथ मिलकर शुक्रवार को ऑक्सफ़ोर्ड सेंटर फॉर हिन्दू स्टडीज के साथ एक समझौता किया और उसपर हस्ताक्षर किये। मुंबई यूनिवर्सिटी ने बताया की यह समझौता इसलिए हुआ है ताकि हिन्दू अध्यन पर ध्यान दिया जाये।

ये समझौता हमे हिन्दू दर्शन के पाठ्यक्रम को आगे बढ़ाने में भी मदद करेगा , इशू हिन्दू अध्यन के व्यापक अध्यन पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। अबसे उच्च पथ्यकर्म में हिन्दू दर्शन को बढ़ावा दिया जाएगा और इसे भारतीय ज्ञान प्रणाली में शामिल करने का भीराष्ट्रिय निति के जोर के अनुरूप छह माह का कोर्स भी शुरू किया जाएगा। इन पाठ्यक्रम को जमनालाल बजाज इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट स्टडीज और अल्केश दिनेश मोदी इंस्टिट्यूट की सहायता से साईबाबा के संस्थान ट्रस्ट और शेगांव के गजानन महाराज मंदिर जैसे बड़े मंदिरो के प्रबंधन के हिसाब से डिज़ाइन किया जाएगा।

Read More: Click Here

अधिकारीयों ने कहा की कुछ सौर प्रणाली का उपयोग कर बिजली का प्रबंधन कर रहे हैं तो कुछ अगरबत्ती बनाने के लिए मंदिर में चढ़ये गए फूलों का प्रयोग कर रहे हैं , यह सबसे अच्छी बात है की इससे रोजगार के मोके भी मिल रहे हैं और कतरो को भी मैनेज करने के लिए तकनीको का प्रयोग किया जा रहा है। इनके ऊपर भी किताबे लिखी गयी हैं संदर्भ के रूप में उपयोग किया जा सकता है।
मुंबई विश्वविद्याल के प्रोफेसर रविंद्र कुलकर्णी जी का कहना है की इस MOU के द्वारा हम दोनों विभागों को विश्व मंच ार अपनी छाप छोड़ने का सुनहरा सवसर है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *