SHOWMANSHIP

संसद में स्मोक अटैक करने वाला एक और शख्स गिरफ्तार

अनुच्छेद 370 को हटाने के फैसले को लेकर उच्च न्यालय ने मुहर लगा दी है जिसको सुन अब चीन और पाकिस्तान का रिएक्शन देखने को मिल रहा है। चीन ने ंतो लदाख पर ही हमला बोल दिया है हिमाकत करते हुए कहा की लदाख SC की आदेश नहीं मानता है जिसने कम्मू कश्मीर के पुनर्गठन को मजूर किया है। भारत देख रहा है की ये लगातार दूसरा मौका है जब चीन ने हमारे देश के मामले में फिर से राय दी है। वह कह रहा है जम्मू कश्मीर के मामले में भारत और पाक को बैठकर बात करनी चाहिए। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता का कहना है की सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से चीन का स्टैंड कभी नहीं बदलेगा। चीन का कहना है की भारत की अदालते हमारा पक्ष नहीं बदल सकती और इसके साथ आपको बता दें 2019 में 370 हटाने के फैसले को लेकर भी चीन की कुछ ऐसी प्रतिक्रिया थी

मंगलवार को भी चीन ने इस मुद्दे पर अपनी प्रतिक्रिया दी थी की भारत को पाकिस्तान के साथ इस मसले पर बैठकर बातचीत करनी चाहिए। चीन इस व्यंग्य रूप में कहता है कि जम्मू कशीमीर भारत का अभिन्न अंग है और इस मामले को शांति से बैठकर सुलझाने में ही समझदारी होगी इस निर्णय पर पाक को भी शामिल करना था। कश्मीर का मुद्दा काफी समय से चला आरहा है तो इसमें आराम से समझौते से चलना चाहिए

Read More : Click Here

चीन तो शुरू से ही जबसे 2019 में भी 370 हटाने के फैसले को गलत बताया था। पर भारत को पाकिस्तान और चीन के स्टैंड कि कोई जरूरत नहीं है। अमित शाह ने सदन में कहा था कि अक्साई चीन , गिलगित बाल्टिस्तान , और POK हमारे हैं जिन्हे हम हर हालत में लेकर रहेंगे। चीन ने तो इस मुद्दे को ( 370 हटाने के फैसले को) संयुक्त राष्ट्र में भी चर्चित करने का निर्णय किया था पर असफल रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *